Tuesday, March 21, 2023
Homeबिहारवायरल बुखार से 100 से अधिक बच्चे पीड़ित NMCH शिशु रोग...

वायरल बुखार से 100 से अधिक बच्चे पीड़ित NMCH शिशु रोग विभाग के 84 में 80 बेड फुल, 5% को गंभीर निमोनिया

पटना सिटी. राजधानी पटना समेत सुबे के विभिन्न जिलों में इन दिनों वायरल फ्लू से पीड़ित होकर बच्चे बड़ी संख्या में अस्पताल पहुंच रहे हैं. वायरल फ्लू से पीड़ित बच्चों में 5% बच्चे गंभीर रूप से बीमार पड़ रहे हैं, और उनमें निमोनिया की शिकायत देखी जा रही है. हालांकि कुशल चिकित्सकों की देखरेख में गंभीर रूप से बीमार बच्चे स्वस्थ होकर अपने घर भी लौट रहे हैं. पटना सिटी के अगमकुआं स्थित नालंदा मेडिकल कॉलेज अस्पताल  के शिशु रोग विभाग (NMCH Child Ward) में 80 बच्चे भर्ती हैं, जिसमें कुछ बच्चे गंभीर निमोनिया (Severe Pneumonia) से पीड़ित हैं. उनका नीकु और पीकू में इलाज चल रहा है. अस्पताल के अधीक्षक और शिशु रोग विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ विनोद कुमार सिंह ने इसे वायरल फ्लू बताते हुए लोगों से इससे नहीं घबराने की भी अपील की है.

अस्पताल अधीक्षक ने बताया कि 95% बच्चे वायरल फ्लू से पीड़ित हैं, जो अगले चार-पांच दिनों में बिल्कुल स्वस्थ हो जाएंगे. हालांकि उनका कहना था कि 2 से 5% बच्चे गंभीर निमोनिया से पीड़ित हैं, जिन्हें विशेष चिकित्सा की जरूरत है. अस्पताल अधीक्षक ने शिशु रोग विभाग को सभी संसाधनों से लैस किए जाने की बात दोहराते हुए किसी भी आपात स्थिति से निपटने को लेकर पूरी तरह तैयार रहने की भी बातें दुहराईं.

See also  मनीष कश्यप ने आखिर क्यों किया सरेंडर

अस्पताल अधीक्षक ने कहा कि शिशु रोग विभाग में कुल 84 बेड उपलब्ध है, जिनमें 80 बच्चों का इलाज चल रहा है. अस्पताल अधीक्षक का कहना था कि एनएमसीएच बिल्डिंग में बच्चों के लिए 42 बेड आरक्षित है, मरीजों की संख्या बढ़ने पर बच्चों को एमसीएच बिल्डिंग में भर्ती किया जाएगा. अस्पताल अधीक्षक ने बताया कि अस्पताल में भर्ती निमोनिया से पीड़ित 18 बच्चों की कोरोना आरटीपीसीआर जांच में सभी की रिपोर्ट नेगेटिव पाई गई है. उनका कहना था कि निमोनिया का कोरोना से दूर-दूर तक कोई संबंध नहीं है.

 

अस्पताल अधीक्षक ने कोरोना की संभावित तीसरी लहर आने की काफी कम संभावना जताते हुए कहा कि अगर तीसरी लहर आएगी तो उसका प्रभाव पहले और दूसरे लहर की अपेक्षा में काफी कम होगा.  उनका कहना था कि बिहार के 65 फ़ीसदी लोग आईआईजी कोविड-पॉजिटिव हो चुके हैं, ऐसे में कोरोना की संभावित तीसरी लहर का उनपर कोई विशेष असर नहीं होगा.

See also  मनीष कश्यप ने किया सरेंडर, पुलिस की बड़ी कार्यवाई , EOU करेगी पूछताछ

 

वहीं अस्पताल में भर्ती बच्चों के परिजनों ने अस्पताल की स्वास्थ्य व्यवस्था पर संतोष जाहिर करते हुए अस्पताल में तैनात डॉक्टरों और स्वास्थ्य कर्मियों के प्रति आभार प्रकट किया. अस्पताल में भर्ती मरीज के परिजनों का कहना था कि अस्पताल में काफी अच्छा इलाज चल रहा है, और यहां किसी भी प्रकार की कोई समस्या नहीं है. उनका कहना था कि डॉक्टरों और स्वास्थ्यकर्मियों द्वारा बीमार बच्चों की बेहतर देखभाल की जा रही है,

 

Source link

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments