Saturday, February 4, 2023
Homeबिहारऔरंगाबाद रामनवमी पर्व के मौके पर मुस्लिम समुदाय के लोग करेंगे सहयोग,...

औरंगाबाद रामनवमी पर्व के मौके पर मुस्लिम समुदाय के लोग करेंगे सहयोग, मिलजुलकर पर्व मनाने की अपील

*औरंगाबाद रामनवमी पर्व के मौके पर मुस्लिम समुदाय के लोग करेंगे सहयोग, मिलजुलकर पर्व मनाने की अपील*

 

हिंदू मुस्लिम एकता जिंदाबाद के लगाए नारे हिंदू

 

सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक पोस्ट करने वालों कार्रवाई की प्रशासन से मांग

 

 

 

औरंगाबाद : शुक्रवार को रमजान का जुमे की नमाज के बाद शहर में पैगाम ए इंसानियत मुस्लिम समुदाय के लोगों ने रामनवमी पर्व को देखते हुए आगामी जुमे की नमाज अदा कर शहर में अमन चैन और शांति से पर मनाने को लेकर बैनर पोस्टर के साथ शहर में भ्रमण किया, जिसका नेतृत्व पैगाम ए इंसानियत के अध्यक्ष मो. शाहनवाज रहमान उर्फ सल्लू खान, वार्ड परिषद सिकंदर हयात ने किया। जामा मस्जिद के समीप हिंदू-मुस्लिम जिंदाबाद का नारा लगाए। लोगों ने इसे सराहा। हिंदू मुस्लिम एकता का संदेश देते हुए नजर आए।

सल्लू खान, वार्ड परिषद सिकंदर हयात ने कहा कि इस्लाम में दहशत आवाहन तक को फैलाने के अलावा दूसरे पर अत्याचार करने का इजाजत नहीं दिया गया है। इस्लाम का अर्थ ही दुनिया में अमन चैन वह शांति का पैगाम देना है। हम लोगों का कर्तव्य है कि 10 और 11 अप्रैल को रामनवमी का त्यौहार है, इसको देखते हुए मिलजुल कर रामनवमी पर्व मनाना है और एक शांति का संदेश देना है। सल्लू ने कहा कि मुस्लिम समुदाय के लोगों ने आज सड़क पर इसलिए उतरे की शांतिपूर्ण तरीके से संदेश आपसी भाईचारा दिया जा रहा है। शहर हमेशा शांति का प्रतीक रहा है। कुछ असामाजिक तत्व के लोग माहौल बिगाड़ने में लगे रहते हैं, ऐसे लोगों से सावधान रहने की जरूरत है। रामनवमी जुलूस में मुस्लिम समुदाय के लोग भी भाग लेंगे। हम सभी को आपसी भाईचारा के साथ रहना चाहिए। रामनवमी पूजा हर धर्म के लोगों के लिए है जिस तरह हम होली पर्व मिलजुल कर मनाएं हैं। उसी तरीके से रामनवमी का पर भी मनाएंगे।

See also  ज्यादा कॉफी का सेवन दिल के लिए है खतरनाक

एक दूसरे का सहयोग करना हम लोगों का मकसद है। सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक बात नहीं करें। किसी भी धर्म आस्था को ठेस नहीं पहुंचाई। किसी भी धर्म के नेताओं का अपमान न करें, यदि सोशल मीडिया पर किसी तरह का पोस्ट या वीडियो वायरल किया गया तो उनके ऊपर और सख्त कार्रवाई की जाएगी और हर तरीके से समाज भी दंडित करेगी। इस मौके पर मोहम्मद इमरान, मोहम्मद बाबू, मोहम्मद छोटन, मोहम्मद नौशाद असलम, मोहम्मद समीर, मोहम्मद असलम, अब्दुल समद, मोहम्मद जिलानी, मोहम्मद रईस अंसारी, मोहम्मद शाहिद, मोहम्मद राशिद, मोहम्मद अशरफ, मोहम्मद आसिफ, मोहम्मद वारिस, मोहम्मद जुल्फिकार, मोहम्मद गयासुद्दीन खान सहित उपस्थित रहे।

See also  जानिये ये हैं भारतीय छात्रों और शिक्षाविदों के लिए भारत सरकार के फ्री ई-लर्निंग प्लेटफॉर्म्स
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments