Saturday, February 4, 2023
Home Blog

Bihar CGL Admit Card : बिहार SSC सीजीएल 3 का एडमिट कार्ड जारी, 23 और 24 दिसंबर को होगी परीक्षा, इस लिंक से अभी करें डाउनलोड

BSSC CGL Admit Card 2022 : बिहार एसएससी सीजीएल 3 परीक्षा का फॉर्म (Bihar SSC CGL 3

Exam Form) 2022 भरे थे और Admit Card का इंतजार कर रहे थे, तो आपको बता दें कि बिहार कर्मचारी

________________________
लेटेस्ट रोजगार समाचार और स्कॉलरशिप न्यूज़ से अपडेटेड रहने के लिए इस ग्रुप में अभी जुड़े. (अगर आप टेलिग्राम नहीं चलाते हैं तो  ताकि बिहार की कोई नौकरी नोटिफिकेशन न छूटे)

कर्मचारी चयन आयोग यानि BSSC के द्वारा बिहार सीजीएल तीन परीक्षा का Admit Card अभी अभी ऑफिशियल वेबसाइट पर जारी कर दिए दिया गया है। जो भी उम्मीदवारों Online Application Form भरे थे तो आप

अपना Admit Card डाउनलोड कर सकते हैं तथा परीक्षा केंद्र यानि Exam Center की जानकारी प्राप्त सकते हैं।

23 और 24 दिसंबर को होगी परीक्षा:

बताते चलें की बिहार कर्मचारी चयन आयोग यानि BSSC के द्वारा बिहार सचिवालय यानि BSSC CGL की भर्ती

बहुत पहले ही निकाली गई थी तथा अभी तक Exam का आयोजन हुआ है। बता दें कि पहले जो Time Table

जारी किया गया था उसके अनुसार Bihar SSC CGL 3 2022 की परीक्षा November, 2022 में आयोजित होना

था 26 और 27 November, 2022 को लेकिन किसी कारणों से परीक्षा का Time Table में बढ़ोतरी करते हुए

परीक्षा का New Time Table जारी कर दिया गया और नए टाइम टेबल के अनुसार Bihar SSC CGL 3 2022

की परीक्षाएं 23 और 24 December, 2022 को आयोजित किया जाएगा। जिसको लेकर BSSC CGL Admit Card 2022 अभी-अभी एक्टिव कर दिया गया तथा सभी अभ्यर्थी एडमिट कार्ड डाउनलोड कर सकते हैं।

ऐसे डाउनलोड करें एडमिट कार्ड:

बिहार कर्मचारी चयन आयोग यानि BSSC के द्वारा जारी किया गया Bihar SSC CGL 3 Exam 2022 के लिए

Admit Card कैसे आपको डाउनलोड करना है उसके लिए आपको नीचे स्टेप बाय स्टेप जानकारी दिए हैं आप

उसके मदद से एडमिट कार्ड (Bihar SSC CGL 3 Exam 2022 Admit Card) डाउनलोड कर पाएंगे।

● Bihar SSC CGL 3 Exam 2022 का एडमिट कार्ड को डाउनलोड करने के लिए आपको सबसे पहले बिहार

कर्मचारी चयन आयोग यानि BSSC की वेबसाईट पर जाना होगा (जिसका डायरेक्ट लिंक नीचे दिया गया है).

● उसके बाद आपके सामने बिहार कर्मचारी चयन आयोग यानि BSSC की वेबसाइट खुल जायेगा।

● जिसमे Bihar SSC CGL 3 Exam 2022 Admit Card का लिंक रहेगा।

● जिसके उपर आपको Click करना है।

● उसके बाद आप से मांगी गई जानकारी डालें।

● उसके बाद आपका Bihar SSC CGL 3 Exam 2022 Admit Card डाउनलोड हो जायेगा।

Bihar SSC CGL 3 2022 Admit Card Link – Click Here

________________________

लेटेस्ट रोजगार समाचार से अपडेटेड रहने के लिए इस व्हाट्सएप ग्रुप में जुड़े :

भोजपुरी इंडस्ट्री छोड़ने को तैयार खेसारी लाल यादव! कहा- मेरी बेटी की कोई गलती नहीं

भोजपुरी फिल्मों के सुपरस्टार खेसारी लाल यादव (Khesari Lal Yadav) ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर किया है, जिसमें वे अपना दर्द बयां कर रहे हैं। उनके मुताबिक़, कुछ लोगों द्वारा उनकी बेटी की तस्वीर का गलत इस्तेमाल किया गया है। खेसारी लाल के मुताबिक़, कुछ दिनों पहले उनके किसी अपने ने एक लाइव के दौरान किसी को थप्पड़ मार दिया था। उन्होंने यह भी बताया कि जिसे थप्पड़ मारा गया था, वह राजपूत समाज से ताल्लुक रखता है और कुछ राजपूतों को लगा था कि उनके पूरे समाज को थप्पड़ मारा गया। इसके लिए उन्हें जमकर टार्गेट किया गया था।

एक बार किया गया टार्गेट : खेसारी

बकौल खेसारी लाल, “एक बार फिर मुझे टार्गेट किया गया है। मेरी बेटी की फोटो और नाम का इस्तेमाल कर गाना बनाया गया है। मैं उस राजपूत समाज से यह पूछना चाहता हूं कि आप लोग गलत को ऐसे ही सपोर्ट करोगे? जब मेरी फैमिली पर कोई बात आती है तो सब लोग चुप क्यों हो जाते हैं। मैं उस राजपूत समाज से पूछना चाहता हूं कि जो लोग हथियार लेकर खेसारी को ढूंढ रहे थे, कहां हैं आप लोग अब? क्यों किसी पिता को गलत करने पर मजबूर कर रहे हो? हमारे परिवार ने किसी का क्या बिगाड़ा है? हम गाना गा रहे हैं, मेहनत कर रहे हैं। लेकिन हमें चारों तरफ से घेरा जा रहा है। आपके समाज ने ही मुझे घेरा हुआ है। जो आपका टाइटल है, वही उनका टाइटल है, जिन्होंने एग्रीमेंट में मुझे दबोच रखा है कि हां खेसारी को बर्बाद कर देंगे। आखिर क्यों? क्या मेरा गुनाह सिर्फ इतना है कि मैं दूध बेचने वाले का बेटा हूं, लिट्टी चोखा बेचकर यहां आ गया। मुझे अपनी मेहनत और लोगों के प्यार के दम पर स्टारडम मिला है।”

मैं स्टार होने साथ पिता भी हूं : यादव

खेसारी लाल यादव ने आगे कहा है, “एक कलाकार, एक एक्टर होने के साथ-साथ मैं एक पिता भी हूं। क्या यह मेरी गलती है? यह तो दुनिया का दायित्व है कि आप अगर इस धरती पर आए हो, इस समाज में आए हो तो किसी के बाप बनोगे। अगर कोई नहीं बनता है तो उसकी गारंटी मैंने थोड़े ली है। उसका अपना जीने का तरीका है। मैं पिता बना। मैंने बच्चे पैदा किए। मैंने बेटी भी पैदा की, मैंने बेटा भी पैदा किया तो उसमें मेरा गुनाह थोड़े ही है यार। मेरी फैमिली ने किसी का क्या बिगाड़ा है?”

‘मैं वैसे ही परेशान हूं’

बकौल यादव, “एक तो मैं वैसे ही अपने गानों को लेकर परेशान हूं कि मेरे कम से कम 200 गाने डिलीट हो गए। मैंने इतनी मेहनत की और सबने मिलकर सब ख़त्म कर दिया। मैं ख़त्म नहीं होऊंगा। लेकिन मैं सबसे, खासकर उस समाज से रिक्वेस्ट कर रहा हूं कि क्या आपके घर में बहन नहीं है? क्या आपके घर में बेटी नहीं है? मत करो यार…एक पिता को मत उकसाओ। कलाकारी में जितना पीछे करना है, कर लो। लेकिन साइड से जो टार्गेट कर रहे हो, वो मुझे ठीक नहीं लग रहा है। यह समाज के लिए ठीक नहीं है। मैं भोजपुरी को आगे बढ़ाने के लिए मेहनत करूंगा, लेकिन जब एक पिता की बात आएगी तो मैं चुप नहीं बैठूंगा।”

कोई लगातार परेशान कर रहा है

हाल ही में खेसारीलाल ने एक वीडियो में अपना दर्द बयां किया था और बिना नाम लिए आरोप लगाया था कि कोई उन्हें सुशांत सिंह राजपूत की तरह बर्बाद करने की कोशिश कर रहा है। उन्होंने कहा कि उस आदमी ने उनके सभी गाने डिलीट करवा दिए और उन्हें लगातार परेशान किया जा रहा है।

BIG BREAKING पटना के बड़े अस्पताल में नाबालिग युवती से रेप की कोशिश, FIR दर्ज

0


पटना. बड़ी खबर बिहार की राजधानी पटना से है जहां आईजीआईएमएस अस्पताल में 17 साल की किशोरी के साथ दुष्कर्म के प्रयास की घटना हुई है. ये घटना सामने आने के बाद खलबली मच गई. किशोरी ने बात ने पुलिस को बतायी जिसके बाद पुलिस ने कार्रवाई की. पीड़िता अपनी सहेली की मां की जांच रिपोर्ट लेने हॉस्पिटल पहुंची थी लेकिन उसका आरोप है कि अस्पताल के कंप्यूटर ऑपरेटर ने कार्यालय का दरवाजा बंद कर उसके साथ दुष्कर्म का प्रयास किया.

पीड़िता की शिकायत पर शास्त्रीनगर थाने में पुलिस ने कंप्यूटर ऑपरेटर अतुल कुमार के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है. पटना पुलिस की मानें तो आरोपी फिलहाल फरार है और उसकी गिरफ्तारी के लिए छापेमारी चल रही है. जानकारी के अनुसार पीड़िता मूल रूप से मुंगेर की रहने वाली है. वो पटना में मीठापुर में किराए के मकान में रह कर इन दिनों पढ़ाई कर रही है. उसकी सहेली की मां का इलाज आईजीआईएमएस में पिछले कई महीनों से चल रहा है.

बिहार: सत्ताधारी RJD विधायक के होटल पर इनकम टैक्स की टीम ने मारा छापा

7 नवंबर की दोपहर 1 बजकर 30 मिनट पर वो सहेली के साथ उसकी मां की जांच रिपोर्ट लेने आई थी. जिस कमरे में जांच रिपोर्ट लेना था किशोरी जब अंदर गई तो और कंप्यूटर ऑपरेटर वहां बैठे हुए थे. कंप्यूटर ऑपरेटर ने बहाने से पीड़िता की सहेली और दूसरे कर्मियों को कहीं और भेज दिया और किशोरी को कुर्सी पर बिठा कर उससे दुष्कर्म की कोशिश करने लगा. आरोपी कंप्यूटर ऑपरेटर ने कमरे का दरवाजा भी बंद कर दिया. कुछ देर बाद जब सहेली वापस आई तो उसे उसे शक हुआ.

जब जबरन दरवाजा खुलवाया गया तब सहेली ने उसे घटना के बारे में सारी जानकारी दी. इसकी शिकायत पीड़िता द्वारा शास्त्रीनगर थाने में की गई. घटना की जानकारी मिलने के बाद अस्पताल में भारी हंगामा भी मचा. इसी का फायदा उठाकर आरोपी फरार हो गया. पुलिस द्वारा इस मामले में यौन उत्पीड़न समेत कई धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया है.

दरभंगा में मिला जीपीएस यंत्र से लैस गिद्ध का खुला राज, पड़ोसी देश से पहुंचा था बिहार


दरभंगा जिला अंतर्गत बहेड़ा थाना क्षेत्र के हावी भौआड़ गांव में बीते 13 नवंबर को बरामद जीपीएस यंत्र से लैस गिद्ध नेपाल की है। नेपाल सरकार द्वारा गिद्ध के अनुकूल वातावरण के अध्ययन के लिए जीपीएस लगाकर छोड़ा गया था। इसमें कहीं भी राष्ट्रीय सुरक्षा आड़े नहीं आ रही है। फिलहाल गिद्ध को पकड़ कर दरभंगा वन्य प्रमंडल कार्यालय में उपचार के लिए रखा गया है। ठीक होते ही उसे मुक्त कर दिया जाएगा। उक्त जानकारी समस्तीपुर वन प्रमंडल पदाधिकारी सह दरभंगा प्रमंडल के वन विभाग के प्रभारी पदाधिकारी सुबोध गुप्ता ने दी।

उन्होंने बताया कि गिद्ध की संख्या काफी कम हो गई है। इस पर नेपाल सरकार अध्ययन कर रही है। चूंकि, दरभंगा से नेपाल की दूरी काफी कम है। गिद्ध काफी बीमार था। इस कारण वह ज्यादा उड़ नहीं सका है और भटकते हुए दरभंगा पहुंच गया। इसकी सूचना मिलते ही वन विभाग के अधिकारियों ने उसे अपने संरक्षण में ले लिया। फिलहाल उसे दरभंगा वन प्रमंडल कार्यालय में रखकर उपचार किया जा रहा है।

13 नवंबर को दरभंगा जिला के बहेड़ा थाना अंतर्गत हावी भौआड़ गांव में ग्रामीणों ने जीपीएस यंत्र से लैस एक गिद्ध को पकड़ लिया था। इसके बाद स्थानीय पुलिस को सूचना दी गई थी। बाद में वन विभाग द्वारा उसे संरक्षण में ले लिया गया था। जिसके बाद फिर दो दिन बाद दरभंगा के अलीनगर स्थित धमुआरा धमसाइन चौर में ग्रामीणों ने एक गिद्ध को पकड़ा। डीएफओ ने बताया कि जंगली गिद्ध है। उसमें किसी प्रकार का यंत्र नहीं लगा है। भूखे या बीमार होने के कारण वह जमीन पर गिर गया था।

ज्योति सिंह की भोजपुरी सुपरस्टार पवन सिंह को WARNING! कहा- कई राज दबाए बैठी हूं

ऐप पर पढ़ें

भोजपुरी सुपरस्टार पवन सिंह इन दिनों अपनी निजी जिंदगी को लेकर सुर्खियों में बने हुए हैं। पवन सिंह की पत्नी ज्योति सिंह ने उन पर सुसाइड के लिए उकसाने और गर्भपात कराने जैसे गंभीर आरोप लगाए हैं। पवन सिंह की पहली पत्नी के निधन के बाद अब उन्होंने ज्योति से शादी की थी, और अब यह शादी की मुश्किल में पड़ती नजर आ रही है।

ज्योति सिंह ने शेयर कीं खूबसूरत तस्वीरें

पवन सिंह के खिलाफ मामला दर्ज कराने के बाद अब ज्योति सिंह ने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट की है जिसको लेकर माना जा रहा है कि इसके जरिए ज्योति ने अप्रत्यक्ष रूप से भोजपुरी सुपरस्टार को हिंट दिया है। ज्योति सिंह ने मांग में सिंदूर लगाए अपनी कुछ तस्वीरें शेयर की हैं जिनमें वह बला की खूबसूरत लग रही हैं।

ज्योति बोलीं- मुझसे वफा की बात ना करें

ज्योति सिंह ने इन तस्वीरों के कैप्शन में लिखा, ‘मुझसे वफा की बात ना करें। मैं अभी भी इंतजार में खड़ी हूं उन लोगों के राजों को छिपाए जो मेरे नाम पर लगातार कीचड़ उछाल रहे हैं।’ बता दें कि ज्योति सिंह ने पवन सिंह के परिवार के कई सदस्यों पर भी गंभीर आरोप लगाए हैं जिसके बाद से फिलहाल पवन सिंह की तरफ से कोई रिएक्शन नहीं आया है।

ज्योति की पोस्ट पर लोगों का रिएक्शन

ज्योति सिंह की इस पोस्ट पर ढेरों लोगों ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। एक यूजर ने कमेंट सेक्शन में लिखा- अगर हो सके तो प्लीज इस शादी को बचा लीजिए। वहीं एक अन्य यूजर ने उल्टा ज्योति सिंह को धमकी देते हुए लिखा- अगर पवन भैया को कुछ भी हुआ तो बहुत गलत होगा। बता दें कि पवन सिंह के फैंस ज्योति पर लगातार हमलावर नजर आ रहे हैं।

चंद्र ग्रहण 2022 : 8 नवंबर को कब से कब तक लगेगा चंद्र ग्रहण । इस समय भूल कर भी नहीं करे ये काम …

0

 चंद्र ग्रहण एक सामान्य खगोलीय घटना है, लेकिन हिंदू धर्म में इसे लेकर कई मान्यताएं और परंपराएं हैं। इन मान्यताओं के अनुसार, चंद्र ग्रहण (Chandra Grahan 2022) शुरू होने से 9 घंटे पहले सूतक काल आरंभ हो जाता है यानी ग्रहण का अशुभ समय। इस दौरान कुछ काम करने की मनाही है। मान्यता है कि ऐसा करने से निकट भविष्य में हमें परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। आगे जानिए 8 नवंबर को होने वाले चंद्र ग्रहण का सूतक काल कब से कब तक रहेगा और इस दौरान कौन-से काम न करें…

भारत के अलग-अलग हिस्सों में कहीं पूर्ण रूप से तो कहीं आंशिक रूप से दिखाई देगा। इस दिन चंद्रोदय के साथ ग्रहण भी दिखाई देने लगेगा, इसलिए भारत में इसके धार्मिक नियम जैसे सूतक आदि माने जाएंगे। भारत में सबसे पहले चंद्र ग्रहण अरूणाचल प्रदेश के ईटा नगर में दिखाई देगा। ग्रहण का समापन शाम 6.19 पर होगा। आगे जानिए 8 नवंबर को होने वाले चंद्र ग्रहण के बारे में खास बातें…

कब से कब तक  है चंद्र ग्रहण

 चंद्र ग्रहण भारतीय समय के अनुसार 8 नवंबर को शाम करीब 4 बजकर 23 मिनट से शुरू होगा और शाम 6 बजकर 19 मिनट तक रहेगा। 

यहां दिखेगा पूर्ण चंद्र ग्रहण (Where will the total lunar eclipse be visible in India?)

भारत के ईटानगर, कोलकाता, भुवनेश्वर, पटना, रांची और कटक में पूर्ण चंद्र ग्रहण दिखाई देगा। ईटानगर में शाम 4.23, कोलकाता में 4.52, भुवनेश्वर में 5.05, पटना में 5.00, रांची में 5.03 और कटक में 5.05 से दिखाई देगा।

यहां दिखेगा आंशिक चंद्र ग्रहण? (Where will the partial lunar eclipse be visible in India?)

भारत के अलग शहरों में चंद्र ग्रहण आंशिक रूप से दिखाई देगा। जानें भारत के किस शहर में चंद्र ग्रहण कितनी बजे दिखाई देगा शुरू होगा…

लखनऊ- शाम 5.16

रायपुर- 5.21

देहरादून- 5.22

दिल्ली- 5.28

अमृतसर- 5.32

भोपाल- 5.36

जयपुर- 5.37

चेन्नई- 5.38

हैदराबाद- 5.40

उज्जैन- 5.42

इंदौर- 5.43

बेंगलुरू- 5.49

उदयपुर 5.49

गांधीनगर- 5.55

मुंबई- 6.01

कब से कब तक रहेगा सूतक काल? (Chandra Grahan 8 November Sutak Timing)
उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. प्रवीण द्विवेदी के अनुसार, चंद्र ग्रहण का सूतक काल 8 नवंबर, मंगलवार की सुबह लगभग 7.23 बजे शुरू होगा, जो शाम को 6.19 पर ग्रहण के साथ ही समाप्त हो जाएगा। भारत में सबसे पहले चंद्र ग्रहण अरूणाचल प्रदेश के ईटानगर में शाम 4.23 पर दिखाई देगा। इसके बाद ये धीरे-धीरे पूरे देश में कहीं आंशिक तो कहीं पूर्ण रूप से दिखाई देगा।

 
जानें सूतक काल के दौरान क्या न करें? (What not to do during Sutak period)
1. सूतक काल दौरान भगवान की प्रतिमा को स्पर्श न करें। संभव हो तो देव प्रतिमाओं को कपड़े या ढंक दें या घर के मंदिर का परदा लगा दें। दीपक या अगरबत्ती भी न लगाएं। सूतक में पूजा करना अशुभ माना गया है।
2. सूतक काल के दौरान भोजन न पकाएं और न ही खाएं। जो भोजन पका हुआ है उसमें तुलसी के पत्ते या कुशा (एक विशेष प्रकार की घास) डाल दें ताकि ग्रहण के बाद भी वह खाने योग्य बना रहे। (बच्चे, बुजुर्ग, गर्भवती महिलाएं और बीमार लोग भोजन कर सकते हैं।)
3. सूतक काल में क्षौर कर्म न करें जैसे बाल न कटवाएं, शेविंग न बनवाएं और नाखून भी न काटें। ये काम भी सूतक के दौरान वर्जित है।
4. सूतक काल के सोना भी वर्जित है। हालांकि ये नियम भी बच्चों, बुजुर्ग, बीमार आदि लोगों पर लागू नहीं होता। ये अपनी शारीरिक स्थिति के अनुसार निर्णय ले सकते हैं।
5. सूतक काल में धारदार चीजों का उपयोग नहीं करना चाहिए जैसे कैंची और चाकू। यानी इस दौरान कोई भी चीज काटे या छिले नहीं। सुई का उपयोग भी इस दौरान न करें।
6. सूतक काल में ब्रह्मचर्य का पालन करें। सिर्फ शारीरिक ही नहीं बल्कि मानसिक रूप से भी। यानी इस दौरान इस तरह की बातों पर विचार भी न करें। इससे अशुभ फल प्राप्त होते हैं।
7. वैसे तो सूतक काल के दौरान भोजन की मनाही है, लेकिन अगर जरूरी हो तो भी तामसिक भोजन न करें जैसे मांसाहार। लहसुन-प्याज से बने भोजन का भी त्याग करें।

जानिए हमेशा पूर्णिमा को ही क्यों होता है चंद्र ग्रहण ?

0

 

वैसे तो चंद्र ग्रहण (Chandra Grahan 2022) और सूर्य ग्रहण खगोल विज्ञान की दृष्टि से आम बात है, लेकिन भारत में इसको धार्मिक और ज्योतिष विद्या से जोड़कर देखा जाता है। ग्रहण से जुड़ी कई मान्यताएं हिंदू धर्म में है इसलिए भारत में नियम भी माने जाते हैं। इस बार वर्ष 2022 का अंतिम चंद्र ग्रहण 8 नवंबर, मंगलवार को होगा। इस दिन कार्तिक पूर्णिमा तिथि रहेगी। भारत में इससे पहले जो चंद्र ग्रहण भारत में दिखाई दिया था, वह भी कार्तिक पूर्णिमा 2021 पर हुआ था। आगे जानिए क्या कारण है कि चंद्र ग्रहण हमेशा पूर्णिमा तिथि पर ही होता है…

क्यों होता है चंद्र ग्रहण? (Why does Chandra Grahan happen?

खगोल शास्त्र के अनुसार, जब पृथ्वी, चंद्रमा और सूर्य के बीच में आती है तो चंद्रमा पर पृथ्वी की छाया पड़ती है, जिसके चलते चंद्रमा कभी पूरा तो कभी आंशिक रूप से ढंक जाता है। इसी स्थिति को चंद्रग्रहण कहते हैं। चंद्र ग्रहण कई प्रकार का होता है जैसे आंशिक चंद्र ग्रहण, पूर्ण चंद्र ग्रहण, माद्य चंद्र ग्रहण और उपच्छाया चंद्र ग्रहण?

पूर्णिमा पर ही क्यों होता है चंद्र ग्रहण? (Why does a lunar eclipse happen only on a full moon?)

चंद्र ग्रहण हमेशा पूर्णिमा पर ही होता है। ऐसा हजारों सालों से हो रहा है। इसके पीछे खगोल शास्त्र का एक बहुत बड़ा कारण छिपा है। इसके अनुसार, पृथ्वी की कक्षा पर चंद्रमा की कक्षा करीब 5 डिग्री तक झुकी रहती है, इस वजह से चंद्रमा कभी पृथ्वी की छाया से ऊपर तो कभी नीचे से निकल जाता है। जिस समय ये दोनों ग्रह आमने-सामने होते हैं, यानी पृथ्वी की छाया पूरी तरह से चंद्रमा पर पड़ती है, उसी समय ग्रहण होता है। ऐसा संयोग सिर्फ पूर्णिमा पर ही बनता है।

जानें 8 नवंबर को होने वाले चंद्र ग्रहण से जुड़ी खास बातें (Special things related to the lunar eclipse of November 8)

– भारत के चंद्र ग्रहण सबसे पहले अरुणाचल प्रदेश के ईटानगर में दिखाई देगा। इस समय शाम 4.23 तक रहेगा
– ईटानगर, कोलकाता, भुवनेश्वर, पटना, रांची और कटक में पूर्ण चंद्र ग्रहण दिखाई देगा। देश के अन्य हिस्सों में आंशिक चंद्र ग्रहण दिखाई देगा।
– चंद्र ग्रहण शाम 6.19 पर समाप्त हो जाएगा, इसी के साथ सूतक काल भी समाप्त हो जाएगा।
– ये चंद्र ग्रहण भारत, दक्षिण अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, उत्तरी अटलांटिक महासागर, पाकिस्तान, अफगानिस्तान और रूस के कुछ हिस्सों दिखाई देगा।
– चंद्र ग्रहण समाप्त होने के बाद कार्तिक पूर्णिमा से संबंधित शुभ काम किए जा सकेंगे यानी दीपदान, पूजा आदि।

BPSC 67वीं प्रारंभिक परीक्षा में पुछे गए प्रश्नों के उत्तर

0

Bpsc 67वीं प्रारंभिक परीक्षा (BPSC 67th prelims exam) 2022 का आयोजन 30 सितंबर को किया गया है। परीक्षा खत्म हो चुकी है । और इस परीक्षा में पुछे गए प्रश्नों के उत्तर और एनलाइसिस इस पोस्ट में दिया गया है।

आपको बता दे की 67वीं बीपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा दुबारा ली जा रही है। इससे पहले 8 मई को प्रारंभिक परीक्षा ली गई थी, लेकिन प्रश्न पत्र वायरल होने के कारण बीपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा रद्द कर दी गई थी। इस बार अत्यंत ही पुख्ता इंतजाम के साथ ये परीक्षए ली जा रही है।

BPSC की 67वीं प्रारंभिक परीक्षा में पुछे गए प्रश्नों के उत्तर इस पोस्ट में दिया गया है। प्रीलिम्स एग्जाम 150 प्रश्नों का होता है , प्रत्येक प्रश्न के लिए 1 अंक निर्धारित किया जाता है। सभी प्रश्न वस्तुनिष्ट प्रकार के होते है। एक प्रश्न के लिए 5 विकल्प दिए जाते है। इस परीक्षा में नेगेटिव मार्किंग नहीं होती है।

https://drive.google.com/file/d/1NMfp5tKmtfS86a7a8B3l0sOxgcFtUycD/view?usp=drivesdk

https://drive.google.com/file/d/1NMfp5tKmtfS86a7a8B3l0sOxgcFtUycD/view?usp=drivesdk

 

राशन कार्ड धारकों को मिलेगी मुफ्त इलाज की सुविधा, बस करना होगा ये छोटा सा काम… : Scheme

Antodaya Ration Card : सरकार द्वारा कई लोगों के फायदे के लिए कई सारी Schemes चलाई जा रही है।

लोगों की आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए Govt पुरानी Schemes में कुछ न कुछ बदलाव करती रहती है या

________________________
बिहार की सभी लेटेस्ट रोजगार समाचार और स्कॉलरशिप से अपडेटेड रहने के लिए इस ग्रुप में अभी जुड़े. (अगर आप टेलिग्राम नहीं चलाते हैं तो फेसबुक को फॉलो करें, ताकि बिहार की कोई नौकरी नोटिफिकेशन न छूटे)

फिर नई Scheme लाती है. इस बार Government ने लोगों को FREE इलाज देने का Decision किया है।

किसको मिलेगा मुफ्त इलाज:

बताते चलें की इस बार Antyodaya Ration Card धारकों के लिए बड़ी खबर(Big News) है।

अगर आप Antyodaya Ration Card के धारके हैं तो आपको मुफ्त यानि FREE इलाज मिलेगा.

अगर आपको State Government या फिर Central Government द्वारा FREE Ration Card मिला है तो

बता दें की आप इस योजना का लाभ(Benefits Of This Scheme) उठा सकते हैं।

लेकिन इस योजना का लाभ लेने के लिए Ayushman Bharat Card बनवाना जरूरी है।

इसके बाद ही Antyodaya Ration Card धारकों को FREE इलाज की सुविधा का लाभ मिल पाएगी।

कैसे बनवाएं आयुष्मान कार्ड:

आपको बता दें की Government ने फैसला लिया है कि हर Antyodaya Ration Card धारक के लिए

Ayushman Bharat Card बनवाया जाएगा जिसके बाद उसे FREE इलाज करवाने का लाभ मिलेगा।

वहीं Ayushman Bharat Card बनवाने के लिए एक बड़ा अभियान(Big Campaign) चलाया जा रहा है।

अगर आप Antyodaya Ration Card धारक हैं और Ayushman Bharat Card बनवाने का सोच रहे हैं तो

इस Ayushman Bharat Card को जन सुविधा केंद्र पर जाकर बनवा सकते हैं।

वहां पर भी इस Ayushman Bharat Card बनवाने की सुविधा शुरू कर दी गई है।

कहां मिलेगा FREE इलाज:

हर Ayushman Bharat Card धारक को Govt. से जुड़े हर अस्पताल में बिल्कुल FREE इलाज मिलेगा।

लेकिन इस योजना का लाभ उठाने के लिए आपके पास Antyodaya Ration Card होना जरूरी है।

रिलीज होते ही क्यों विवाद में आ गया पवन सिंह, नम्रता मल्ला का ‘लाल घाघरा’ गाना, जानें क्या है पूरा मामला

भोजपुरी सुपर  स्टार पवन सिंह का नया गाना लाल घाघरा जैसे ही रिलीज़ हुआ वैसे ही   लाल घाघरा  विवादों में आ गया है। दरससल विवाद इस  गाने के टाइटल को लेकर है। आपको बता दे की  खेसारीलाल यादव और आम्रपाली दुबे की  पहले रिलीज हो चुकी फिल्म डोली सजा के रखना में भी इसी नाम का गाना है। जब  पवन सिंह ने अपने नए   गीत  का टाइटल लाल घाघरा  है तो इस पर विवाद हो रहा है। पवन सिंह के गाने में नम्रता मल्ला हैं। यह लोगों को काफी पसंद आ रहा है।

2021 में आया था खेसारीलाल का गाना

खेसारी लाल यादव और पवन सिंह के बीच गानों के टाइटल का क्लैश सुर्खियों में है।  खेसारीलाल यादव की फिल्म का गाना ‘लाल घाघरा’ नवंबर 2021 में ही रिकार्ड किया गया था। लाल घाघरा टाइटल से ही पवन सिंह का गाना भी रिलीज हो जाने से क्लैश हो रहा है। सुगबुगाहट है कि गाने की वजह से खेसारीलाल यादव और पवन सिंह के बीच तल्खी बढ़ सकती है।

15 मिलियन से ज्यादा व्यूज

बात करें पवन सिंह के गाने लाल घाघरा की तो इसे यूट्यूब पर 15 मिलियन से ज्यादा व्यूज मिल चुके हैं। गाने में पवन सिंह के साथ नम्रता मल्ला ने अपने बोल्ड मूव्स दिखाए हैं। गाने के सिंगर पवन राज और शिल्पी सिंह हैं।